Tips to score 95% in class 10 Sanskrit paper

 

कक्षा – 10वीं  संस्कृत परीक्षा में अधिकतम अंक पाने के लिए सुझाव

Here, we are going to discuss how to score 95% marks in CBSE Class 10 Sanskrit examination. If you are not happy with your marks or want to score maximum marks, you should follow these instructions

इस भाग में आप यह जानेंगे की आप कक्षा 10वीं संस्कृत की परीक्षा में अधिकतम अंक कैसे ला सकते हैं। इस भाग में मुख्य रूप से हम जानेंगे कि संस्कृत का प्रश्न पत्र कितने खण्डों में बंटा होता है ? किस खंड में कितने प्रश्न पूछे जाते हैं और कितने अंकों के लिए पूछे जाते हैं ? किस खंड को करते समय क्या -क्या बातें ध्यान में रखनी है ? प्रश्न पत्र के अनुसार समय को कैसे विभाजित करना है और अपनी उत्तर पुस्तिका का प्रदर्शन (presentation)कैसे करना है ।

सबसे पहले हम खण्डों के विभाजन के बारे में जानेंगे
संस्कृत प्रश्न पत्र में चार खण्ड (भाग )होते हैं –

खण्ड  क – अपठितांश – अवबोधनं ( reading comprehension )
खण्ड ख – रचनात्मककार्यं ( writing skills )
खण्ड ग – अनुप्रयुक्त व्याकरणं ( applied grammar )
खण्ड घ – पठित -अवबोधनं ( literature)

 

अब हम खंड क के बारे में विस्तार से जानेंगे –
खण्ड क –

इस खण्ड में आपको केवल एक प्रश्न पूछा जाता है ,जो एक अपठित गद्यांश होता है। ये गद्यांश चार भागो में बांटा होता है।

इसके अंक निम्न प्रकार से बांटे होते हैं – ( 2 +4 +2 +2 =10 )

खण्ड क को करते समय आपको निम्नलिखित बातों का ध्यान रखना है –

  1. प्रश्न के जिस भाग में जैसा निर्देश दिया गया है ,उसी के आधार पर उत्तर देना है।
  2. गद्यांश को अच्छे से पढ़ना है और समझना है। आवश्यक लगने वाली पंक्ति को रेखांकित करना है।
  3. प्रश्नों को समझ कर उसका सही उत्तर गद्यांश में से ही देना है।  
  4. ध्यान रखना है कि शीर्षक हमेशा शुरू में या अंत में छुपा होता है।

 

अब हम खंड ख के बारे में जानेंगे –
खण्ड ख –

खण्ड ख में दो प्रश्न पूछे जाते हैं। यह खण्ड 15 अंकों के लिए पूछा जाता है।

इसमें पहला प्रश्न (पत्र) 5 अंकों के लिए ।

दूसरा प्रश्न (चित्र वर्णन)10 अंको के लिए पूछा जाता है।  

खण्ड ख को करते समय निम्नलिखित बातों का ध्यान रखना चाहिए –

  1. मञ्जूषा (options) में दिए गए शब्दों को लिखते समय ध्यान से लिखना चाहिए।
  2. वाक्यों को बनाते समय आसान वाक्य बनाने का प्रयास करना चाहिए।
  3. मञ्जूषा  (options)के शब्दों का अर्थ समझ लेना चाहिए।
  4. यदि आपकी संस्कृत अच्छी नहीं है तो अनुछेद छोड़ कर, चित्र देख कर वाक्य बनाने वाला भाग चुनना चाहिए।

 

अब हम खंड ग के बारे में जानेंगे –
खण्ड ग –

खण्ड ग 25 अंकों के लिए पूछा जाता है।इसके सात प्रश्नों में अंको का विभाजन इस प्रकार से होता है –

संधि – 4 अंक

समास  (MCQ) – 4 अंक

प्रकृतिप्रत्यय (MCQ) – 4 अंक

वाच्य परिवर्तन – 3 अंक

कलबोधक(समय ) – 2 अंक

अव्यय पद – 4 अंक

शुद्ध अशुद्ध – 4 अंक

खंड ग को करते समय आपको निम्नलिखित बातो का ध्यान रखना चाहिए –

यह खण्ड व्याकरण से सम्बंधित प्रश्नों पर आधारित है ,अतः आपको व्याकरण के निर्धारित विषयों को ध्यान पूर्वक पढ़ना है। निर्धारित विषयों को अच्छे से जानने के लिए आपको साथ ही में कुछ लिंक दिए गए है, आप उन लिंकों की सहायता से अपना विषय आसानी से समझ सकते हैं।

 

 

अब हम जानेंगे खंड घ के बारे में –
खण्ड घ –

खण्ड घ 30 अंको के लिए पूछा जाता है।इसके 4 प्रश्नों में अंकों का विभाजन इस तरह से होता है –

पहले प्रश्न में-

गद्यांश – 6  अंक

पद्यांश – 6 अंक

नाट्यांश – 6  अंक

दूसरा प्रश्न – प्रश्न निर्माण – 4 अंक

तीसरा प्रश्न – श्लोक अन्वय – 2 x 2 = 4 अंक

चौथा प्रश्न -प्रयायपद – 4 अंक

खंड घ को करते समय आपको निम्नलिखित बातो का ध्यान रखना चाहिए –

  1. गद्यांश ,पद्यांश और नाट्यांश में जैसा निर्देश (instructions) दिया गया हो उसी के आधार(according) पर उत्तर देना चाहिए।
  2. पर्यायवाची ,विलोम ,समानार्थक ,विशेषण पदों का ज्ञान आपको इस खण्ड में बहुत लाभकारी होगा।
  3. अपनी पाठ्य पुस्तक के सभी श्लोकों को ध्यान से पढ़ना है।

 

समय प्रबंध

अब हम जानेंगे की परीक्षा में समय को किस तरह विभाजित करना है ताकि आप समय पर अपनी परीक्षा पूर्ण कर सको।

भाग (क) – 30 मिनट
भाग (ख) – 20 मिनट
भाग (ग) – 45 मिनट
भाग (घ) – 60 मिनट

इस तरह समय को विभाजित करने के बाद भी आपके पास 25 मिनट बच जाते हैं-

1)15 मिनट आपको दोहराने के लिए रखने हैं।
2)10 मिनट आप उस भाग में लगा सकते हो जो आपको कठिन लगता हो।

प्रदर्शन(Presentation)

परीक्षा में अच्छे अंको को प्राप्त करने में प्रदर्शन एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है इसलिए आपको पता होना चाहिए कि उत्तर पुस्तिका को किस तरह से प्रदर्शित करना है। आपको निम्नलिखित बातों का ध्यान रखना है –

1 ) खंड के सभी भागों को एक साथ करना चाहिए और प्रश्न नंबर सही डालना चाहिए।
2 )सभी प्रश्नों के बीच सही स्थान बनाकर रखना चाहिए।
3 )शीर्षक और उपशीर्षक को पेंसिल की सहायता से रेखांकित कर सकते हैं।

 

सबसे महत्वपूर्ण सुझाव इस प्रकार हैं –

1 )परीक्षा से दो दिन पहले कम से कम पिछले वर्षों के दो प्रश्न पत्रों को समय को ध्यान में रख कर पूरा करने का प्रयास करे।
2 )अशुद्धियों को कम करने के लिए कठिन शब्दों को बार – बार लिख कार प्रयास करना चाहिए।
3 ) कठिन वाक्यों के प्रयोग से बचना चाहिए।

 

Show Comments

No Responses Yet

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.